गाजियाबाद में दिल दहला देने वाली वारदात, 2 बच्चों, 2 बीवीयों समेत कारोबारी ने की आत्महत्या ।

खबर दिल्ली से सटे गाजियाबाद से है जहां एक कारोबारी गुलशन वासुदेवा ने मंगलवार को 2 बच्चें, 2 पत्नियों परमीना और संजना के साथ आठवीं मंजिल पर बने उनके फ्लैट से कूदकर आत्महत्या की । इस वारदात का कारण उनकी आर्थिक तंगी माना जा रहा है, गुलशन ने मरने से पहले, अपने साड़ू भाई राकेश वर्मा के खिलाफ एक सुसाइड नोट लिखा है, जिसमें उसने राकेश को अपने और अपने परिवार की मौत का जिम्मेदार ठहराया है ।

आपको बता दें कि कारोबारी गुलशन वासुदेवा इंदिरापुरम में आभा वर्मा के फ्लैट में किराए पर रहते थे। संजना जोकि गुलशन की पत्नी थीं, उन्होंने अस्पताल में दम तोड़ने से पहले पुलिस से कहा था कि उन तीनों ने अपनी मर्जी से आत्महत्या की है।

कैसे दिया वारदात को अंजाम
पहले दोनों बच्चों का गला दबा कर उनकी हत्या की, जिसके बाद गुलशन ने फंदा लगाकर आत्महत्या करने का भी प्रयास किया था। लेकिन एक साथ एक जगह पर तीन फंदे ना लगा पाने की वजह से आत्महत्या करने का तरीका बदला। जिसके बाद बालकनी में लाइन से कुर्सी लगाई और तीनों कूद गए। कूदते समय उस कमरे को चुना, जिसकी बॉलकनी में जाली नहीं लगी थी। सूत्रों की मानें, तो पुलिस को कमरे में पंखे से लगा एक फंदा भी मिला है।

पहले उन्होंने अपने 13 वर्षीय बेटे रितिक और 18 साल की बेटी कृतिका की गला दबा कर हत्या कर दी थी। संजना, गुलशन की फर्म की मैनेजर भी थीं। बेडरूम की दीवार पर लिखे सुसाइड नोट में गुलशन ने अपने साढू़ राकेश वर्मा को घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया है। राकेश फरार है और पुलिस उसके परिवारवालों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। कमरे की दीवार पर लिखा है कि ये पैसे अंतिम क्रिया-कर्म के लिए हैं। हम पांचों की आखिरी इच्छा है कि हमारे शवों को एक साथ जलाया जाए।

सोसायटी में तैनात सुरक्षाकर्मी ने बताया कि उसने सुबह करीब 5.15 बजे किसी भारी चीज के गिरने की आवाज सुनी। मौके पर उसे एक पुरुष के अलावा दो महिलाएं लहूलुहान अवस्था में मिलीं। पुलिस ने तीनों को अस्पताल पहुंचाया। पुरुष व एक महिला को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि दूसरी महिला (संजना) को गंभीर हालत में दूसरे अस्पताल ले जाया गया। उपचार के दौरान उनकी भी मौत हो गई। मृतक गुलशन वासुदेवा उर्फ हरीश (47) और संजना दोनों दिल्ली के रहने वाले थे। गुलशन ने डेढ़ माह पहले ही यह फ्लैट किराये पर लिया था। संजना के परिवारवालों ने बताया कि उन्होंने गुलशन से शादी कर ली थी और उनके साथ ही रहती थीं।

पुलिस के अनुसार, गुलशन से उनके साढ़ू साहिबाबाद निवासी राकेश वर्मा ने करीब दो करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। इस मामले में राकेश, उसकी मां 2016 में जेल भी गए थे। कोलकाता की सिटी लाइफ कंपनी को दिए गए 65 लाख रुपये के माल में से 60 लाख डूबने की जानकारी भी मिली है। गाजियाबाद के एसएसपी सुधीर सिंह ने बताया कि आर्थिक तंगी के कारण कारोबारी ने बच्चों की हत्या करने के बाद परमीना और संजना के साथ आत्महत्या कर ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *