बुलबुल तूफान की गुजरात पर दस्तक, 120 किमी की रफ्तार से चल सकती है हवा

कुछ दिन पहले अरब सागर में उठा चक्रवाती तूफान ‘महा’ अब और बड़ा और अधिक शक्तिशाली हो गया है . जिसके चलते गुजरात में भारी बारिश का हाई अलर्ट जारी किया गया है. इसके साथ ही मछुआरों को समुद्र में ना उतरने की सलाह भी दी गई है. मौसम विभाग के मुताबिक, चक्रवाती तूफान ‘महा’ के कारण उत्तर कोंकण और गुजरात में आंधी के साथ तेज बारिश होगी.

मौसम विभाग ने सरकार को चेताया कि 6 नवंबर की रात अगले दिन सुबह चक्रवात ‘महा’ गुजरात के पोरबंदर और दीव के बीच समुद्री तट से टकरा सकता है. और जब ये होगा, इस दौरन वहां 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं. तेज हवाओं के साथ-साथ ही तटीय इलाकों में भारी बारिश की आशंका भी जताई जा रही है .देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार सुबह अधिकारियों के साथ बैठक की और चक्रवात ‘महा’ की स्थिति के साथ उससे निपटने के लिए तैयारियों का जायजा भी लिया.

ये तूफान भारत के पूर्वी तटों को भारी मात्रा में प्रभावित करने वाला है. लेकिन तूफान इसके हिट करने की लोकेशन का अभी सटीक अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता है. हालांकि अधिक संभावना ओडिशा या उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटीय भागों पर इसके लैंडफॉल के संकेत अभी मिल रहे हैं

यहां आपको बता दें अगर कोई तूफान अक्टूबर में बंगाल की खाड़ी में विकसित होता है तो उसके पश्चिम बंगाल या बांग्लादेश की तरफ जाने की संभावना रहती है जबकि नवंबर में बनने वाले तूफान आंध्र प्रदेश और ओडिशा का रुख करते हैं जबकि दिसंबर में विकसित होने वाले चक्रवाती तूफान तमिलनाडु को भिगोते हैं.

बंगाल की खाड़ी में पाबुक और फोनी के बाद साल 2019 का यह तीसरा चक्रवाती तूफान होगा. पाबुक जनवरी के पहले सप्ताह में बना था और यह अंडमान व निकोबार द्वीप समूह पर बारिश देने के बाद रास्ता बदलकर म्यांमार चला गया था. जबकि मई में तूफान फोनी ने ओडिशा को बुरी तरफ प्रभावित किया था. उसके बाद कोलकाता सहित पश्चिम बंगाल भी इसकी चपेट में आया था.

दूसरी ओर अरब सागर में इस साल चार तूफान (वायु, हिक्का, क्यार और महा) बन चुके हैं. इस तरह संभावित तूफान बुलबुल भारतीय उप-महाद्वीप में साल 2019 का 7वां तूफान होगा. 2018 में कुल 7 तूफान आए थे. इसकी बराबरी होना तो लगभग तय है. उम्मीद यह भी है कि 7 का आंकड़ा पार हो जाए. अगर खाड़ी में तूफान विकसित होता है तो तटीय आंध्र प्रदेश और ओडिशा में 9 से 12 नवंबर के बीच भीषण बारिश देखने को मिलेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *