भारत बनाम बांग्लादेश दूसरा टेस्ट, क्या होंगे जीत के मंत्र

अपने भारत दौरे पर आई बांग्लादेश के पिंक बॉल से खेले जाने वाले पहले डे-नाइट टेस्ट मैच का मंच पूरी तरह से तैयार है, दोनों टीमों के प्लेयर्स अपनी अपनी तैयारियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। लेकिन पेच यहां नहीं फसता, असली पेच टीम कॉम्बिनेशन को लेकर फंस सकता है, पिच को देखते हुए, कहा जा सकता है कि, दोनों टीमों को अपने अपने बोलिंग अटैक पर ज्यादा ध्यान देने कि जरूरत पड़ेगी, जिसके चलते पेस और स्पिन के बीच संतुलन बनाने के लिए जूझना पड़ सकता है।

आपको बता दें ये भारत और बांग्लादेश के बीच सीरीज का दूसरा टेस्ट है, जो कि कोलकाता में 22 नवंबर से खेला जाएगा, ईडन गार्डंस में होने वाला यह मैच डे-नाइट टेस्ट है, जिस वजह से दोनों टीमों में बदलाव देखने को मिल सकते हैं ।

क्रिकेट सलाहकारों कि माने तो कहा जा रहा है, कोलकाता में स्पिन को पेस से अधिक मदद मिलेगी, और अगर इसपर गौर करा जाए, तो टीम में स्पिन बोलर शामिल हो सकते हैं,आपको बता दें कि भारतीय पेस बॉलर जसप्रीत बुमराह इस मैच में रेस्ट करेंगे, लेकिन उनकी अनुपस्थिति में भी भारतीय पेस बॉलरों की धार कम नहीं होगी, देखना ये है, ईडन गार्डंस की स्पिन फ्रेंडली पिच पर टीम इंडिया कितने पेसर्स के साथ उतरेगी यह देखना दिलचस्प होगा।

यहीं आपको बता दें, इससे पहले बांग्लादेश के साथ खेले गए इंदौर में पहले टेस्ट में भारतीय टीम तीन पेसर्स और दो स्पिनर के साथ उतरी थी। लेकिन उस मैच में स्पिनर्स की ज्यादा जरूरत नहीं पड़ी। घरेलू क्रिकेट में पिंक बॉल से कई मैच खेल चुके स्पिनर झारखंड के स्पिनर शहबाज नदीम की माने तो पिंक बॉल से बोलिंग के वक्त स्पिनर को टर्न से ज्यादा लाइन और लेंथ पर ज्यादा निर्भर रहना होगा।

भारत ने इंदौर टेस्ट में बांग्लादेश को पारी और 130 रनों से मात दी। होलकर स्टेडियम में भारत ने तीसरे दिन ही मैच अपने नाम कर लिया। भारत की इस जीत की बदौलत टीम इंडिया ने विराट कोहली की कप्तानी में कई नए रेकॉर्ड्स अपने नाम किए।

भारत ने इंदौर टेस्ट जीतकर लगातार छठा टेस्ट मैच जीता। यह लगातार सबसे ज्यादा मैच जीतने के भारतीय रेकॉर्ड की बराबरी है। इससे पहले भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 2013 में लगातार छह टेस्ट मैच जीते थे।

विराट कोहली पारी के अंतर से सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जीतने वाले भारतीय कप्तान बन गए हैं। विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने अब तक 10 मैचों में जीते हैं। इससे पहले भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 9 मैचों में पारी के अंतर से जीत हासिल की थी। मोहम्मद अजहरुद्दीन ने 8 और सौरभ गांगुली की कप्तानी में भारत ने सात बार पारी के अंतर से जीत हासिल की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *