मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मुलाक़ात में अहम मुद्दों पर वार्ता हुई

जम्मु कश्मीर मामले पर की गई तीखी बयानबाजी के चलते, कल चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत दौरे पर आए . आपको बता दें, जिनपिंग और मोदी की मुलाकात इस बार, अनोपचारिक है, और ये इन्फॉर्मल मीटिंग तमिलनाड़ु के महाबलीपुरम में हो रही है, महाबलीपुरम का चयन खास है, क्योंकि 7वीं सदी में महाबलीपुरम और चीन के बीच बंदरगाह से व्यापारिक संबंध थे. इसी दौरे में पीएम मोदी शी जिनपिंग को गणेश रथ, कृष्णा बटर बॉल, पंच रथ दिखाएंगे और इनके महत्व को भी समझाएंगे ।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने भारत दौरे से पहले जम्मू-कश्मीर के मसले पर एक विवादित बयान दिया जिसमें उन्होंने कहा की जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र चार्टर के हिसाब से सुलझाने चाहिए जिसपर भारत ने पलटवाक करते हुए जवाब दिया कि ये हमारा आपसी मामला है, कोई दूसरा देश इस मसले पर ना बोले.

 

 

 

 

खैर आपको बता दें की जिनपिंग के महाबलीपुरम पहुंचने पर मोदी ने तीन भाषा तमिल, चीनी और अंग्रेजी में ट्वीट कर अपनी खुशी जाहिर करते हुए लिखा वैलकम टू इंडिया, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पीएम नरेंद्र मोदी कुल 6 घंटे एक साथ रहे, इसमें वन टू वन बैठक करीब 40 मिनट हुई, जिसके बाद दोनों देशों की ओर से एक प्रेस स्टेटमेंट जारी हुआ । विदेश सचिव विजय गोखले ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया कि पीएम मोदी के अलावा शी जिनपिंग ने भी शानदार स्वागत और इंतजाम की तारीफ की. उन्होंने शानदार व्यवस्था के लिए राज्य सरकार की सराहना की, राष्ट्रपति शी जिनपिंग स्वागत से अभिभूत हो गए. विदेश सचिव ने बताया कि दोनों देशों के बीच आपसी संबंध, आतंकवाद और व्यापार जैसे मुद्दों पर चर्चा हुई.

 

 

 

महाबलीपुरम में पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को पंच रथ, अर्जुन तपस्या स्थल और शोर मंदिर दिखाया, इस दौरान पीएम मोदी चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को इन जगाहों के महत्व को भी बताया. साथ ही पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति को कृष्ण का माखन लड्डू दिखाया. इसी दौरान पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति ने नारियल का पानी पिया. साथ ही दोनों नेताओं ने बातचीत की, जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग शोर मंदिर गए. दोनों नेताओं ने पहले मंदिर घूमा और बाद में कलाक्षेत्र फाउंडेशन के छात्रों द्वारा शोर मंदिर के पास आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम का आनंद लिया, जिसके बाद दोनों नेता वहां से रवाना हो गए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *